Find Us OIn Facebook

 कैमरा में सबसे मैंन पार्ट होता है वह है सेंसर मोबाइल फ़ोन कैमरा में आपको दो तरे के के सेंसर देखने को मिलते है एक होता है coms और एक होता है bsi




bsi सेंसर cmos से थोड़ा अच्छा होता है लौ लाइट परफॉमेंस में और आपको ब्राइट पिक्चर आपको देता है bsi सेंसर में क्या होता है पीछे सेंसर लगा होता है ओ फ्लिप किया जाता है जब आप फोटो खेचते समय जो लाइट आते है वह सेंसर पीछे के तरफ जाते है और जो लाइट है वह रेफ़्लेट नही होती और आपको एक ब्राइट फोटो मिलते है

sensor size

जतने नंबर छोटा होगा उतने ही आपको बड़े पिक्सेल मिलेंगे और जतने बड़े पिक्सेल होंगे उतने इमेज आपको अच्छे मिलेंगे जब आप फोटो को ज़ूम करते हो तब आपको पिक्सेल देखने को मिलेंगे

camera aperture

आप मोबाइल के डबे पर देखा होगा ये क्या होता है जो f होता है वह फोकल लेंथ होता है जो नम्बर होता है वह आपके कैमरा के आगे जो ओपनिंग हे जो होल होता है 

उसका डायमीटर जो dslr कैमरा होते है उसमे आप मैनुअली चेंज कर सकते है और जो आपके मोबाइल के फ़ोन होते है उसे आप चेंज नही कर सकते ओ आपके मोबाइल के साथ आता है 

उसे ही use कर सकते है और जितना आपका अपर्चर कम होगा उतने आपके कैमरा ओपनिंग उतने ही बड़ी होगी और जितने आपके कैमरा की ओपनिंग होगी उतनी ही अच्छे लौ लाइट फोटो लेगा और आप जो फोटो ले रहे है उसके पीछे ब्लर फोटो मिलेंगे

Ois

ois क्या होता है जब आप फोटो लेट है जब आपका हाथ थोड़ा हिलता है तब उसको stabilize करता है और आपको क्लेर इमेज देता है और लौ लाइट में अच्छा पर्फोमन्स देता है और जब आप वीडियो रिकॉर्डिंग करते है तो आपको stabilize वीडियो देता है

Focus technology

आपने सुना है होगा लेज़र ऑटो फोकस फीज़ डीडेशन ऑटो फोकस और आपको नार्मल ऑटो फोकस इनमेसे सबसे अच्छा है वह लेज़र

Laser auto focus

लेज़र ऑटो फोकस क्या करता है कैमरा के पीछे एक छोटा सा एक component होता है और वह क्या करता है बहुत सारे बीम को बडे एरिया में फेकता है और आप फोटो ले रहे है 

उस वस्तु  पर  टकराकर बीम वापस आते है और जब बीम वापस आते है तब वह देखता है की वह बीम कितनी दूर से टकराकर वापस आए है मान लेजीय आप किसी वस्तु का फोटो ले रहे है तो एक बीम होगा उस वस्तु को टकराकर वापस जायगा

दूसरा बीम है वह उस वस्तु के पीछे से जाकर वापस जायगा जब ओ दो बीम वापस जायगे तो ओ कैलकुलेट करते है की जो सब्जेक्ट है ओ इस जगे तक है और उसका यह स्टेचर हे 

उसके अकॉर्डिंग लेंस को मूव कर के एक फोकस इमेज दे पाते है उसे तरह आप तब तो फोकस करते है तो तो उस पॉइंट पर बीम फेकता है और टकराकर वापस आता है जाने में और आने टाइम लगता है उसके अकॉर्डिंग destinations कैलकुलेट करता है और उसके अकॉर्डिंग लेंस मूव करके फोकस कर देता है

Phase-Detection Auto-Focus

फेज ऑटो फोकस क्या होता है जो आपका सेंसर है ओ इनकमिंग लाइट जो है ऑब्जेक्ट से जो लाइट आरही है उसके फेज को डिटेक्ट करता है उसके अकॉर्डिंग लेंस को मूव करता है

contrabeez focus

यह कान्ट्रैबज पर काम करता है जो आपका सब्जेक्ट है और आपको बैकग्राउंड है उसे कान्ट्रैबज के थ्रू लेवल फोकस करने की कोशिश करता है इसमें कोही लेज़र बीम नही होता कोही फेज डेटसिओं नहीं होता अगर आप tab कर लेगे तो ओ फोकस कर लेगा और कभी कभी फोकस करने में टाइम लगता है लौ लाइट में देखा होगा की ओ फ़्लैश को फायर करता है फोकस करने कलीय

Flash

आपको तीन फ़्लैश देखने को मिलते है सिंगल लेद फ़्लैश ड्यूल लेद फ़्लैश ड्यूल टोन लेद फ़्लैश

Single led flash

का मतलब है की सिंगल लेद फ़्लैश प्रोडूस करके आपको लाइट देगा और

Dual led flash

का मंतलब है की दो लेद आपको ड्यूल लेद में ब्राइट इमेज आपको मिलेंगे

Camera Terms Explained

का मतलब ये आता है की उसमे तो लेद लगी होती है ओरे दोनों के कलर अलग अलग होते है एक होती कूल टाइप यानि थोडेसे ब्लू और दूसरे वार्म यानि के यलो और ओ लाइट के अकॉर्डिंग सब्जेक्ट के अकॉर्डिंग दोनों l ही लेद अकॉर्डिंग करता है और आपको मिक्स लाइट देता है और आपको नेचुरल फोटो देखने को मिलता है

और जो हमारे आखरी कम्पोनेट की जोकि बहुत जरूरी है जोकि एक सॉफ्टवेयर है जो है हमारा इमेज प्रोसेसिंग ये अलग अलग कम्पनी अलग अलग इमेज प्रोसेसिंग यूज करता है 

इमेज प्रोसेसिंग ये ओ चीज़ है जो ख़राब इमेज को अच्छा बना सकता है और अच्छे कम्पोनेट होने के बाउजूत िंगे को ख़राब बना सकते हो अगर आपके पास दो स्मार्ट फ़ोन हे same कैमरा है लेकिन इमेज प्रोसेसर अलग अलग है तो आपको इमेज भी अलग मिलेगी

आपको कोही प्रॉब्लम है तो आप कमेंट करके बता सकते हो और अगर आपको आर्टिकल पसंद आया तो शेयर करे और हमारे ब्लॉग के साथ जुड़े रहे तो मिलते और एक नई आर्टिकल के साथ




Post a Comment

أحدث أقدم